“धरण (नाभि) खिसकना” सत्य और तथ्य !

“धरण (नाभि) खिसकना” सत्य और तथ्य !

February 17, 2019 0 By Dr.Gunjarika Ranka

“धरण” यह शब्द जन-जन के बीच जितना सामान्य हैं आधुनिक चिकित्सा विज्ञानं इस से उतनी ही दूरी बना कर रखता हैं। यहीं कारण हैं की जहाँ एक ओर हमारे घरों में दादी नानी के पास इसके कुछ इलाज उपलब्ध हैं वहीँ डॉक्टर इस तरह की किसी समस्या को ही नकार देते हैं। डॉक्टर सही हैं जब वो कहते हैं की धरण जैसा “कोई अंग नहीं होता” पर वे गलत होते हैं जब कहते हैं की धरण “कुछ नहीं होती।”

धरण की समस्या को कभी अपच/गैस से जोड़ा जाता हैं तो कभी तनाव से। और ये दोनों ही बातें सही हैं।

नाभि के पीछे पाचन तंत्र तो हैं ही इसलिए इस जगह का सम्बन्ध भोजन से होना स्वाभाविक है, पर तनाव का यहाँ क्या काम? सही बात हैं !  तनाव का मामला तो हमारा दिमाग और तंत्रिका तंत्र (Nervous System) देखता हैं।

और इस काम को करने के लिए हमारे Nervous System के दो विभाग हैं।

१. SNS विभाग – जब हमें किसी ख़तरे का आभास/ आशंका होती हैं तब ये विभाग हरकत में आ जाता हैं। ये हमें मुसीबत के समय आकुल व्याकुल कर देता हैं जिस से की हम खुद को उस मुसीबत से बचाने का उपाय सोच सकें। ह्रदय की धड़कन बढ़ जाना, पसीना आना, श्वास भारी हो जाना, पैरों में कम्पन आदि लक्षण (जितनी बड़ी मुसीबत उतने बड़े लक्षण).

२. PNS विभाग – इसका काम हैं हमारे अंदर “सब ठीक है” “कोई ख़तरा नहीं हैं” “relax” वाले भाव बनाए रखना। जो हमें शान्त रखने का कार्य करता हैं। जैसे ही मुसीबत दूर हो जाये थोड़ी ही देर में श्वास सामान्य होने लगती हैं, ह्रदय गति नियमित हो जाती हैं और हम रिलेक्स महसूस करने लगते हैं।

😊 तो ज़ाहिर हैं इन दोनों को मिल कर काम करना होगा तभी हमारा काम चलेगा !

ये दोनों आपसे में समझबूझ बना कर काम तो करते है पर शरीर का एक स्थान ऐसा हैं जहाँ ये वाक़ई मिलते हैं यानी इसे इनका Meeting Point समझ लिजिए और वह स्थान हैं नाभि, नाभि के पीछे ये दोनो बड़ी nerves एक दूसरे को क्रॉस करती हैं।

नाभि के ठीक पीछे ये दो अति महत्वपूर्ण nerves कई और महत्वपूर्ण tissues के साथ Arota के ठीक सामने मिलते हैं…Arota कौन? Arota हमारे शरीर की सबसे बड़ी रक्त वाहिका हैं ।

 

यानी धरण अपने आप में कोई एक अंग नहीं हैं पर धरण एक क्षेत्र (area) हैं !

नाभि के पीछे स्थित इस क्षेत्र को नियंत्रण कक्ष इसलिए कह सकते हैं क्यों की यहाँ से हमारे शरीर के अति महत्वपूर्ण कार्यों –

तनाव, रक्त चाप, पाचन को नियंत्रित किया जाता हैं। यहाँ से सारे शरीर को ऊर्जा प्रसारित की जाती हैं, जिससे शरीर के अन्य सभी कार्य और जीवन संभव हो पाता हैं।

ये क्षेत्र इतना महत्वपूर्ण हैं की इसे हमारा “दूसरा दिमाग” भी कहा जाता हैं !

नाभि और दिमाग के बीच बहुत गहरा सम्बन्ध होता हैं। हमारे जीवन में तनाव जिस तेजी से बढ़ रहा हैं, वह नाभि के इसी नियंत्रण केंद्र में असंतुलन उत्पन्न करता हैं। मन/दिमाग पर छाने वाले किसी भी डर या आशंका का सीधा असर नाभि के नियंत्रण केंद्र पर आता हैं।

 

नाभि असंतुलन के कारण :

  • समय पर और संतुलित आहार ना लेना, पूरी नींद ना लेना, शारीरिक श्रम ना करना इन सबके कारण Nervous System की नाड़ियों पर दबाव बढ़ता हैं। नाभि के पीछे ये नाड़ियाँ भोजन नाल और रक्त वाहिका के संपर्क में होती हैं। तंत्रिकाओं के तनाव/कमजोरी का असर इन सभी पर पड़ता हैं।
  • खेल कूद करते समय भी नाभि केंद्र सरक सकता हैं।
  • अचानक से दाएं बाएं झुकना, चलते चलते अचानक किसी गड्ढे में पैर जाना, तेजी से सीढ़ियाँ चढ़ना उतरना भी नाभि सरकने के वजह बन सकते हैं।
  • अपच (गैस), अत्यधिक तनाव भी नाभि सरकने के प्रमुख कारणों में से हैं।
  • मासिक चक्र, गर्भावस्था के समय ये दिक्कत बढ़ने के chances रहते हैं।

नाभि खिसकने से होने वाली दिक्कतें –

  • नाभि के ऊपर सरक जाने से कब्ज और गैस की दिक्कत हो जाती हैं। लम्बे समय तक यह दिक्कत रहने से अल्सर हो सकता हैं।
  • नाभि नीचे की ओर सरक जाये तो दस्त की समस्या हो जाती हैं।
  • नाभि बायीं ओर सरक जाये तो अग्नाशय, किडनी पर असर आता हैं। मासिक सम्बन्धी परेशानियां होने लगती हैं। 
  • नाभि दांयी ओर सरक जाये तो लिवर, गॉलब्लेडर, किडनी और आँतों में दिक्कत बढ़ जाती हैं।

नाभि खिसकने के लक्षण-

  • पेट दर्द, दस्त सबसे सामान्य लक्षण हैं पर सिर्फ इनसे यह पता नहीं चलता की वास्तविक कारण नाभि सरकना हैं या कुछ और। इसलिए कुछ और लक्षण भी देखने आवश्यक हैं।
  • रोगी को पीठ के बल सीधा लेटा कर नाभि को उँगलियों से दबाएं। यदि नाभि के नीचे कुछ स्पंदन महसूस हो तो नाभि अपनी जगह पर ही हैं और यदि यह स्पंदन वहां न महसूस हो कर आस पास हो तो इसका अर्थ हैं की नाभि अपनी जगह से सरक गयी हैं।
  • एक और तरीका यह भी हैं की रोगी के दोनों हाथों की रेखाओं को मिला कर छोटी वाली उँगलियों की लम्बाई देखें यदि वे दोनों बराबर हैं तो नाभि अपनी जगह पर हैं अन्यथा सरक गयी हैं।

नाभि सरकने का उपचार :

इसके लिए कई घरेलु नुस्खे तो उपलब्ध हैं ही पर सबसे कारगर हैं किसी योग्य योग शिक्षक के निरीक्षण में योग क्रियाओं द्वारा अपने नाभि स्थान को पुष्ट करना।

धरण के इलाज के दौरान खान-पान को ले कर विशेष सावधानी बरतनी चाहिए :

  • तला हुआ, तेज मसालेदार भोजन ना करें
  • मूंग दाल की खिचड़ी खायी जा सकती हैं
  • एक चम्मच आंवले के रस में 5-6  बूंदे अदरक के रस की मिला कर पियें।
  • तुलसी के पत्तों का रस और शहद एक एक चम्मच मिला कर दिन में 2-3 बार पीजिये।

 

नाभि के पीछे का यह क्षेत्र हमारे शरीर के सात चक्रों में से एक “मणिपुर चक्र” हैं। ध्यान (Meditation) के समय इस चक्र पर ध्यान केंद्रित करना चमत्कारी रूप से आरोग्यदायक सिद्ध होता हैं। इन सातों चक्रों और ध्यान साधना के आरोग्यदायी प्रभावों पर चर्चा अगली बार 🙂

Facebook Comments