बच्चों का रिरियाना – ऐसे करें इलाज !

बच्चों का रिरियाना – ऐसे करें इलाज !

March 19, 2019 1 By Dr.Gunjarika Ranka

चिंटू मैंने कहा ना कोई चिप्स नहीं मिलेंगे अभी। नाआआआSS मम्मी मुझे चाहिए अभी चाहिए मम्मी दो नाआआSS मम्मी उउउउउ देओ नाआआSS….मम्मीईई…… “

परेशान कर देता हैं बच्चे का ये रीई रीई कर के किसी मना की गयी चीज को माँगते रहना और लगातार माँगते रहना। आप मना करती हैं पर वो मानते ही नहीं। सारे घर में पीछे पीछे घूमते रहेंगे और यही एक आवाज फुल वॉल्यूम पर चालू रहेगी मम्मीी दे दो नाआ…

आप सच में चाहती हैं उसे चुप कर देना…  सर में दर्द कर रही हैं ये आवाज। लो !  ये लो चिप्स ! चुप हो जाओ…!!  जाओ यहाँ से। घर में बाकि लोग भी परेशान और जो कहीं कोई मेहमान भी हो तो समर्पण के अलावा क्या चारा था? तुरंत ही घर का शांत सुखद वातावरण लौट आता हैं। फाइनली सब ठीक हैं अब।

सब ठीक हैं पर कितनी देर? तब तक, जब तक की आपके लाड़ले का दिल किसी और चीज पे नहीं आ जाता !  और आपने अभी अभी बच्चे को सिखाया भी हैं की रिरियाना बहुत काम का तरीका हैं। बच्चे का रिरियाना माँ को खिजा देता हैं, और अनुभव यह कहता हैं की ये बाजा ऐसे ही बजता रहेगा जब तक की वह चीज दी न जाये। आपके बच्चे का अनुभव भी यही कहता हैं की बिना रुके बस रिरियाते रहो सफलता मिलनी तो तय हैं !

आपने कैसे सिखाया?

देखिये-

जैसे ही आपका बच्चा आपसे कुछ मांगता हैं आपका रवैया ऐसा होता हैं —

  • तुम ऐसे रीरियाओगे तो मैं नहीं सुनूंगी (पर आप इसके बाद भी सुनती रहती हैं)
  • आपने बच्चे को कहा “नहीं” फिर उसने रिरियाना शुरू किया और आपको लगा हे भगवान्! फिर से वो सब शुरू होगा और आप तुरंत आप मान गए।
  • आपने बच्चे को कहा “नहीं” और 10 मिनट तक आप दृढ़ता से इस “नहीं” पर कायम भी रहें. पर 10 मिनट में रिरियाना सुनना आपकी बर्दाश्त से बाहर हो गया. ओफ्फोह ये लो चिप्स अब चुप हो जाओ !
  • तो हाँ, आपके बच्चे ने जान लिया हैं रिरियाना बहुत काम की चीज हैं। और सिर्फ इसलिए की इसे सुन कर मम्मी का मूड खराब हो रहा हैं, वो इसको छोड़ने वाले नहीं हैं !

बच्चों के इस व्यवहार को बदलने का सिर्फ एक तरीका हैं, और वो हैं खुद आपका व्यवहार बदलना।

बजाय इसके की आपकी प्रतिक्रिया और सारे जतन इस बात पर हों की किसी तरह बच्चे का रिरियाना बंद हो जाये, आपको एक कड़वे लेकिन बहुत महत्वपूर्ण तथ्य को स्वीकार करना होगा की आप जबरदस्ती बच्चे का रिरियाना बंद नहीं करवा सकते। इसलिए जरुरी हैं की बच्चों को ये बात अच्छी तरह से समझ आ जाये की रिरियाने से कोई फायदा नहीं होता। एक बार उन्हें ये समझ आ गया तो बस ! रिरियाना बंद !

सुन के अच्छा लगा न !  और ये इतना मुश्किल भी नहीं हैं। मुश्किल हैं बस पहला कदम — पर, एक बार वो कदम उठा लिया तो समझिये आपने आधी लड़ाई तो जीत ही ली। और यह पहला कदम हैं अपने आप को एक प्रतिरक्षा कवच पहनाना — रिरियाने के सामने।

अब यही तो बात हैं रिरियाने की आवाजे सर में दर्द देती हैं…खीज भरती हैं तो प्रतिरक्षा कैसे हो। यहाँ आपको अपने दिमाग के साथ एक ट्रिक खेलनी हैं। कई बार बस में या हवाई जहाज में सफर किया होगा आपने। तो सोचिये की सफर के दौरान अगर किसी और का बच्चा ऐसे ही रीरिआना शुरू कर दे तो आप क्या करेंगे? आपको तो कोई अधिकार भी नहीं की आप सहयात्री से कहे की आपका बच्चा जो मांग रहा हैं…दे दो और न ही आपको अधिकार हैं आप वो चीज उस बच्चे को दे दें। तो एक ही विकल्प बचता हैं आपके पास इग्नोर करने का…और आप अपना ध्यान कहीं और लगा लेते हैं ! इग्नोर करते समय क्या आप इस सब दृश्य के लिए खुद को जिम्मेदार मान रहे होते हैं ? नहीं न।

चलिए अब कल्पना कीजिये अपने ही रिरियाते हुए बच्चे की और आपको ठीक वैसा ही व्यवहार करना होगा जैसा आप तब करते। हालाँकि, इस समय भी आपको अपने बच्चे के प्रति लापरवाह नहीं हो जाना हैं। आपकी नज़र के दायरे में भी रहेंगे वे पर “मेरा बच्चा दुखी हैं — मैं ना कह रही हूँ इसलिए ये सब हो रहा है — मेरी हाँ से ही ये सब बंद हो सकता हैं” वाली ग्लानि से खुद को दूर रखें !

अगली बार जब आपका बच्चा रिरियाना शुरू करे, तो एक गहरी लम्बी सांस लीजिये अपने प्रतिरक्षा कवच को पहनिए — याद रखिये की आपका ये नन्हा आफत का पुलिंदा आपका कुछ नहीं बिगाड़ सकता हैं ! उसे बस ‘कुछ’ चाहिए और उसे पाने के लिए वो आफत मचाने जा रहा हैं। आप शांत और दृढ आवाज और भावों के साथ कहिये, “मैंने सुना के तुमको मोबाइल पर और वीडियो देखना हैं पर तुम्हारें आज के मोबाइल इस्तेमाल का समय ख़त्म हो चुका हैं और अब, मेरा जवाब ‘ना’ हैं। या “मुझे पता हैं के तुमको आइसक्रीम पसंद हैं पर इस समय आइसक्रीम नहीं खा सकते”

अगर वो रिरियाना चालू रखें, तो अपना जवाब तुरंत दोहराएं (दोहराने में देर करने से उसको ये लगता हैं की माँ सुन तो रही ही हैं तो कुछ देर और रिरियाने से शायद काम बन जाये). अपना जवाब दोहराने के साथ ही ये भी कहें की तुम रिरियाते हुए बात कर रहे हो और मैं इस लहज़े को नहीं सुनूंगी। तुमको ऐसे ही बोलना हैं तो अपने कमरे में जाओ और वहां जा कर अकेले में रिरिया सकते हो।”

बच्चे से ये सब कहना आसान हैं पर असली बात हैं ये सब निभाना। सिर्फ रटे रटाये तरीके से यह कह कर अगर आप अपने बच्चे को सारे घर में अपने पीछे पीछे घूमने देंगी तो बात नहीं बनेगी। इसलिए उन्हें दृढ़ता मगर शांत सपाट लहजे में कहिये। “जब तुम अपने सही लहज़े में बात करोगे तब मैं तुम्हारी बात सुनुँगी”

यकीन रखिये उस लहजे में अपने बच्चे की बात सुनने से इंकार कर के आप उनके मासूम मन को कोई चोट नहीं पहुंचा रहीं हैं। ना ही अपने उद्विग्न बच्चे को बात करने का सही तरीका अपनाने को कहने में भी कोई बुराई हैं। उसे यह बता देने में भी कोई नुकसान नहीं हैं कीउसे रिरियाते हुए पूरे घर में घूमने की इजाजत नहीं हैं।

इस योजना से रिरियाना पहली बार में ही बंद हो जायेगा ऐसा नहीं हैं। पर आपके इस व्यवहार से रिरियाने वाली ट्रिक पर बच्चे का यकीन जरूर कम हो जायेगा। और 2-4  बार में उसे ये अच्छी तरह से समझ आ जायेगा की रीरियानें का जमाना गया…अब इस से कुछ नहीं होता !

पर जब तक वो शानदार दिन आ नहीं जाता तब तक अपने प्रतिरक्षा कवच को पहने रखें ! सावधान ! एक बार सिर्फ एक बार भी अगर आप रिरियाने के आगे नरम पड़ीं तो याद रखिये आपके बच्चे का इस तरीके पर यकीन फिर से लौट आएगा और आपको ये सारा-मिशन-फिर-से-शुरू-करना-होगा !!

Facebook Comments